Ghusl ki dua in hindi | Ghusl ki dua after Periods | Humbistari ke baad ghusl ki dua

Ghusl ki dua in hindi | Ghusl ki dua after Periods

ग़ुस्ल (Ghusl) एक अरबी शब्द हे जिसका मतलब सरल अर्थ में नहाना होता हैं। इस्लाम धर्म में विभिन्न अनुष्ठानों और प्रार्थनाओं से पहले पूरे शरीर के शुद्धिकरण के लिए ग़ुस्ल करना जरूरी हैं । इस्लाम धर्म में यदि आपका ग़ुस्ल सही नहीं होता हैं तो आपकी सभी प्रार्थनाएं भी अमान्य हैं जायेगा । संभोग, मासिक धर्म या प्रसव के बाद ग़ुस्ल करना जरुरी हैं। तो चलिए जानते हैं ग़ुस्ल की दुआ (Ghusl ki dua), पीरियड्स के बाद ग़ुस्ल की दुआ (ghusl ki dua after periods) और हमबिस्तरी के बाद ग़ुस्ल की दुआ (humbistari ke baad ghusl ki dua) पढ़ने का तरीका और इसके सम्बंधित पूरी जानकारी।

ग़ुस्ल क्या है – Ghusl kya hai

ग़ुस्ल के अर्थ नहाने की क्रिया या स्नान होता हैं। संभोग, स्वप्नदोष, मासिक धर्म या प्रसव(बच्चे को जन्म देना), के बाद ग़ुस्ल करना फ़र्ज़ होता हैं। ग़ुस्ल करने के तरीके में तीन फ़र्ज़ होता है – 1. कुल्ली करना 2. नाक में पानी चढ़ाना 3. सर से लेकर पैर तक हर जगह पानी बहाना ।

ग़ुस्ल की नियत – Ghusl ki Niyat

सबसे पहले दिल में इरादा बनाएं की हम निजासत से पाक होने के लिए नहाने जा रहे हैं। इसके बाद बिस्मिल्लाह कहकर ग़ुस्ल शुरू कर दे।

ग़ुस्ल की तरीका – Gusl ki Tarika

नियत के बाद तीन बार हाथ धोएं और फिर प्राइवेट पार्ट से कोई भी गंदगी धोएं। फिर नमाज के लिए जैसे वुज़ू बनाते हैं वैसे वुज़ू बनाये। इसके बाद तीन बार अच्छी तरह से सिर के ऊपर पानी डालें और बालों को रगड़ें ताकि पानी बालों की जड़ों तक पहुंचे। फिर शरीर को धोएं और सुनिश्चित करें कि पानी सभी हिस्सों तक पहुंच जाए।

ग़ुस्ल की दुआ – Gusl ki Dua in Hindi

सुन्नत के मुताबिक ग़ुस्ल के लिए कोई विशिष्ट डुआ नहीं है, लेकिन अधिकांश इस्लामिक विद्वानों ने घुसल की शुरुआत में बिस्मिल्लाह कहकर शुरू करना पसंद किया जाने वाला कार्य बताया हैं। इशलिये हम कह सकते हैं की Gusl ki Dua ‘बिस्मिल्लाह’ हैं।

Gusl ki Dua in Hindi – बिस्मिल्लाह
Gusl ki Dua in English – Bi-smi llah

पीरियड्स के बाद ग़ुस्ल की दुआ – Ghusl ki dua after Periods in hindi

Gushl ki dua after periods
Gushl ki dua after periods

एक महिला की मासिक धर्म में रक्त बंद होने पर उनकी पीरियड खत्म हो जाता हैं। यदि रक्तस्राव बंद हो जाता है और वह शुद्ध हो जाती है। खुद को शुद्ध करने के इरादे से मासिक धर्म के बाद ग़ुस्ल करना जरुरी है। Ghusl ki dua after Periods के लिए कोई विशिष्ट दुआ नहीं है, इसके अलावा प्रसिद्ध दुआ “बिस्मिल्लाह” कहकर आप ग़ुस्ल शुरू कर सकती हैं।

Also Read –  The beauty of Assamese Muslim Marriage

हमबिस्तरी के बाद ग़ुस्ल की दुआ Humbistari ke baad ghusl ki dua

Humbistari ke baad ghusl ki dua के बारे में आज हम बताएँगे । Humbistari ke baad ghusl के लिए ऐसा कुछ खास दुआ नहीं हैं । ग़ुस्ल के लिए जो दुआ होता हैं वही नियम Humbistari ke baad ghusl ki dua में लागु होगा।
1. सबसे पहले दिल में नियत करना होता हैं की हम निजासत से पाक होने के लिए अल्लाह तआला की रजा और सवाब के लिए नहाते है।
2. फिर अपने दोनों हांथो को गट्टों को तीन बार अच्छे से धोये।
3. इस्तिन्जे की जगह को अच्छे से धोएं ।
4. बदन पर लगे निसाजत को अच्छे से साफ़ करे|
5. जैसे नमाज़ पढ़ने से पहले वजू करते है वैसे ही वजू करे
6. फिर शरीर को पूरी तरह पानी से धोएं और सुनिश्चित करें कि पानी सभी हिस्सों तक पहुंच जाए। तोह एहि हैं Humbistari ke baad ghusl ki dua ।

ghusl ki dua after intercourse
ghusl ki dua after intercourse

40 दिन का ghusl ki dua – 40 din ka ghusl ki dua

बच्चा पैदा होने के बाद माँ को जितने दिन bleeding हो उस को निफ़ास का वक्त कहा जाता हैं। निफ़ास की कोई भी fix time नहीं होता हैं क्यों की हो सकता है की किसी औरत को bleeding बिलकुल न हो या उसका time ज़ादा से ज़ादा 40 दिन तक हो। 40 din ka ghusl ki dua आपको ब्लीडिंग जब बंध हो जाये तब ऊपर बताया हुआ ghusl ki dua की तरह पढ़ कर ghusl कर के नमाज, रोजा शुरू कर देना चाहिए।

ग़ुस्ल की दुआ वीडियो ghusl ki dua video

Leave a Comment

error: Content is protected !!